search_avp

पसंद की खबरें प्राप्त करने के लिए यहां टाइप करें !

पीईटी परीक्षा : यूपी एसटीएफ टीम ने नकल कराने वाले सरगना सहित दो दर्जन गिरफ्तार


लखनऊ । उत्तर प्रदेश में 20 लाख से अधिक युवाओं के लिए प्रीलिमिनरी एलिजिबिलिटी टेस्ट 2023 परीक्षा आयोजित की जा रही है। उम्मीदवारों की इतनी बड़ी संख्या के बावजूद चालाकी से परीक्षा पास करने की जुगत में लगे परीक्षार्थियों का भंडाफोड़ हुआ है, पुलिस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से 16 और ब्लूटूथ का इस्तेमाल करके परीक्षा दे रहे 9 लोगों को गिरफ्तार किया है। यूपी एसटीएफ ने दीपक कुमार पटेल प्रतापगढ़ गैंग लीडर व अजय कुमार पटेल उर्फ गामा प्रयागराज गैग लीडर सुजीत कुमार परीक्षा केन्द्र माउण्ट लिटेरा जी स्कूल उन्नाव से पंकज कुमार मौर्या परीक्षा केन्द्र भगवत प्रसाद मेमोरियल इण्टर कालेज, चिल्ला रोड बाँदा सेजितेंद्र कुमार वर्मा परीक्षा केन्द्र सुधाकर महिला इण्टर कालेज, खजुरी पाण्डेयपुर वाराणसी सेव अनुरागकुमार परीक्षा केन्द्र आयसा सिद्दीकी गर्ल्स इण्टर कालेज, कानपुर व रविन्द्र सिंह भारतीय आदर्ष इण्टर कालेज, तिलपता थाना सूरजपुर, गौतमबुद्धनगर (सॉल्वर ) और उदयवीर सिंह (वास्तविक अभ्यर्थी ) व विनय कुमार पटेल (कक्ष निरीक्षक) व दिलीप वर्मा (अभ्यर्थी) को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए लोगो के पास से चार ब्लूटूथ डिवाइस सहवर्ती उपकरण के साथ व आठ मोबाइल फोन और चार प्रवेश पत्र व एक फर्जी आधार कार्ड और प्रवेश पत्र तथा एक सी०एफ०एस० एन्ट्री परमिट कार्ड उदयवीर सिंह का बरामद किया।

एडीजी एसटीएफ अमिताभ यश ने बताया कि प्रदेश के 35 जिलों के कुल 1058 परीक्षा केन्द्रों पर 04 पालियों में प्रारम्भिक अहर्ता परीक्षा 2023 आयोजित की गई इस परीक्षा को नकल विहीन करने के लिए एसटीएफ की विभिन्न इकाईयों को सक्रिय किया गया था। प्रारम्भिक अहर्ता परीक्षा में अभ्यर्थियो को उत्तीर्ण कराने के लिए गैगों व साल्वरों ने आर्थिक और भौतिक लाभ के लिए विभिन्न माध्यमों से साल्वर बैठाकर प्रश्न पत्रों को हल कराकर नकल कराने के नाम पर अवैध आर्थिक लाभ अर्जित कर रहे थे। इसको लेकर एसटीएफ टीम को गौतमबुद्धनगर से गिरफ्तार रविन्द्र सिंह को गिरफ्तार किया तो पूरा राज खुला। इसके बाद टीमने अलग अलग जगह से दस लोगो को गिरफ्तार कर उनसे पूछतांछ कर रही है।

-- इसे भी पढ़ें --