search_avp

पसंद की खबरें प्राप्त करने के लिए यहां टाइप करें !

जौनपुर: जिले के पूर्व विधायक उमाशंकर यादव की कहानी, अपने 18 माह के कार्यकाल में कराए थे दर्जनों कार्य


जौनपुर । गड़वारा विधानसभा क्षेत्र (अब बदलापुर) बदलापुर तहसील एवं ब्लाक महराजगंज के राजपुर रुखार चरियाही निवासी उमाशंकर यादव एक साधारण परिवार से थे। महराजगंज स्थित कौशिल्या देवी जायसवाल इंटर कालेज में शिक्षक थे लेकिन समाज सेवा व राजनीति में लगाव था।

सन 1991 में बसपा के सिम्बल से चुनाव लड़े उस समय पराजय हुई। उस समय भाजपा से कल्याण सिंह मुख्यमंत्री हुए लेकिन 1992 में सरकार गिर गयी। सन 1993 में सपा - बसपा गठबन्धन से उमाशंकर यादव विधायक चुने गये थे। गठबंधन की सरकार 18 माह तक ही चली। उमाशंकर यादव ने सपा का दामन थाम लिया और लगातार समाजवादी पार्टी में कर्मठ कार्यकर्ता के रूप में कार्य करते रहे । 


18 माह के कार्यकाल में किया दर्जनों कार्य


18 माह के कार्य काल मे इन्होंने सई नदी पर कंधी पुल, सुजानगंज में बिधुत पावर हाउस, महराजगंज में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दो दर्जन से अधिक सड़के, 2005 में सपा सरकार बनने पर मुख्यमंत्री मुलायम सिंह इनके घर आये । जिनकी मांग पर चरियाही मिनी स्टेडियम व प्राथमिक विद्यालय का निर्माण हुआ।  



सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव से गहरा लगाव रहा


सपा-बसपा गठबंधन में उमाशंकर यादव वर्ष 1993 में करीब 10 हज़ार वोटों से जीत दर्ज कर विधायक बने थे। जब 1993 में सपा-बसपा के गठबंधन से मैदान में उतरे और गठबंधन टूटने के बाद उमाशंकर यादव सपा में शामिल हुए। वह सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव के करीबियों में भी रहे हैं।


इंटर कालेज में शिक्षक थे - विधायक उमाशंकर यादव 


उमाशंकर यादव क्षेत्र के डॉक्टर भीमराव आंबेडकर इंटर कॉलेज, पीजी कॉलेज के प्रबंधक और कौशल्या देवी इंटर कॉलेज महराजगंज के प्रधानाचार्य भी रहे हैं। 



63 वर्ष के आयु में हुआ निधन


पूर्व विधायक उमाशंकर यादव की 63 वर्ष के आयु में सांस लेने में तकलीफ होने पर प्रयागराज के एक निजी अस्पताल में उनका निधन हो गया था।