search_avp

पसंद की खबरें प्राप्त करने के लिए यहां टाइप करें !

जौनपुर : पूर्व सांसद धनंजय सिंह ने कहा मैंने नहीं वापस किया BSP का टिकट, बसपा ने खुद काटा श्रीकला का टिकट

जौनपुर न्यूज़ : यूपी के जौनपुर लोकसभा सीट से बसपा (BSP) प्रत्याशी के रूप में नामांकन कर चुकी श्रीकला धनंजय सिंह का सोमवार को बसपा ने टिकट काटते हुए सांसद श्यामसिंह यादव को दोबारा मौका दे दिया है। जिसे लेकर पूर्व सांसद धनन्जय सिंह ने कहा कि टिकट कटने से मैं और मेरी पत्नी दोनों आहत हैं। 


बताते चले कि जौनपुर के पूर्व सांसद धनन्जय सिंह ने कहा कि मेरी पत्नी श्रीकला का टिकट काट कर गलत किया गया है। उन्होंने इसे बेईमानी की बात बताया। कहा कि पार्टी ने उन्हें धोखा दिया है। यदि मैं मैदान में होता तो मैं निर्दलीय चुनाव लड़ता। टिकट भी आखिरी दिन काटा गया, अगर वक्त रहता तो हम चुनाव लड़ने पर विचार करते। 

बता दे कि सोमवार की सुबह अचानक बसपा ने लोकसभा जौनपुर सीट से प्रत्याशी व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीकला धनंजय सिंह का टिकट काटकर निवर्तमान सांसद श्यामसिंह यादव को उम्मीदवार घोषित कर दिया है। बसपा के वाराणसी जोन कॉडिनेटर ने बताया कि श्रीकला के पति पूर्व सांसद धनन्जय सिंह ने खुद से टिकट वापस किया है।

बसपा नेता के इस बयान पर पलटवार करते हुए पूर्व सांसद ने कहा BSP मुझे अच्छी तरह से जानती है। बसपा के नए नेता शायद मुझे नही जानते है। धनन्जय सिंह ने कहा कि 2002 में बसपा सरकार में मुझे फर्जी मुकदमे में जेल भेजा गया। 2011 में जब मायावती मुख्यमंत्री थी। उस समय मैं बसपा का सांसद था। मेरी किसी बात को लेकर मुख्यमंत्री से अनबन हो गई थी। मुझे जौनपुर आने से रोकने के लिए जिले में धारा 144 लगा दिया गया था। दिल्ली के पत्रकारों ने मुझसे कहा आप जौनपुर मत जाइए इसके बाउजूद मैं जौनपुर आया। टीडी कालेज में 10 हजार से अधिक भीड़ के साथ सभा भी किया। उसके बाद मुझे फर्जी मुकदमों में जेल भेज दिया गया।मुझे पहले से ही आशंका था कि मेरे पत्नी का टिकट काट दिया जयेगा। चूंकि मैं जेल में था। बसपा के लोगो ने मायावती से मेरी पत्नी की बात कराकर टिकट दिलवाया था। जिसमे मेरा कोई रोल नही था। उन्होंने कहा मैं चुनाव निर्दल ही लड़ता। पूर्व सांसद ने साफ कहा कि मेरी किसी भी दल के बड़े नेता से कोई बात हुई है ना तो मैंने किसी के दबाव में टिकट वापस किया है। यह मुझे डिफेम करने की साज़िश हुई है।

सम्बंधित खबरें  👇